अगर आपको है फोटाग्राफी का शौक, तो आप भी बना सकते हैं फोटाग्राफी में अपना करियर

अगर आपको है फोटाग्राफी का शौक, तो आप भी बना सकते हैं फोटाग्राफी में अपना करियर
इंडिया 2डे न्यूज(आपके साथ)

नई दिल्ली । आज के दौर में सभी लोगों अपने मोबाइल से फोटो खीचते रहते है। लेकिन कई लोग इतनी अच्छी फोटो खीचते है , की सभी लोग उनकी खीची फोटो की तारीफ किए बिना नहीं रह सकते। अगर आप को अच्छी फोटो खीचने की समझ है फोटोल फोटोग्राफी या वीडियोग्राफी का शौक है और बेहतर तरीके से कैमरा संभाल लेते हैं, साथ में क्रिएटिव सोच के भी हैं तो इस क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। फोटोग्राफी आपके लिए एक बेहतरीन स्वरोजगार साबित हो सकती है।

छोटे शहरों में फोटोग्राफी का नाम सुनते ही जेहन में जो ख्याल सबसे पहले आता है, वह है एक फोटोग्राफी स्टूडियो या फिर शादी-विवाह या किसी अन्य अवसर पर तैयार किए जाने वाले फोटो शूट पर आधुनिक समय में फोटोग्राफी के मायने बदल गए हैं। अब प्रोफेशनल फोटोग्राफी करने वालों के लिए कई और मौके भी हैं। ऐसे में फोटोग्राफी की थोड़ी समझ रखने वाला युवा भी अपनी योग्यता निखार कर इस क्षेत्र में खुद को स्थापित कर सकता है।

कैमरे का बढ़ता दायरा
पहले फोटोग्राफी या वीडियोग्राफी का इस्तेमाल ज्यादातार पोर्ट्रेट फोटोग्राफी या फिर विवाह या किसी अन्य बड़े सामाजिक समारोह में ही होता था, पर इनकी दुनिया काफी बड़ी है। स्टूडियो और सामाजिक समारोह के अलावा आज के समय में थीम आधारित पार्टी, फैशन उद्योग, कॉरपोरेट जगत, पर्यटन उद्योग, समाचार पत्र व समाचार चैनल, विज्ञापन एजेंसी जैसी कई जगहों में इनके बगैर बेहतर काम होना संभव नहीं है। छोटे शहरों में भी इनका तेजी से विकास हुआ है। ऐसे में वहां के प्रोफेशनल फोटोग्राफर के लिए काफी मौके पैदा हुए हैं।

संभावना
आज छोटे शहरों में थीम पार्टी का चलन काफी बढ़ रहा है, ऐसे में थीम फोटोग्राफी और वीडियो फिल्म की मांग तेजी से बढ़ी है। मॉडलिंग की दुनिया में जाने की चाहत रखने वाले छोटे शहर के काफी युवा अपना पोर्टफोलियो तैयार कराने के लिए प्रोफेशनल फोटोग्राफर की तलाश में रहते हैं। इंटरनेट की बढ़ती पहुंच ने छोटे शहरों के फोटोग्राफरों के लिए बेहतरीन मंच उपलब्ध करा दिया है।
आज छोटे शहर का फोटोग्राफर या वीडियोग्राफर जीवनशैली, वन्य जीवन, पर्यटन संबंधी फोटो शूट आदि कर उसे देश-विदेश में आसानी से बेच लेता है। छोटे शहरों में होने वाले फैशन शो, बिजनेस मीटिंग और अन्य कार्यक्रमों के लिए भी अब स्थानीय प्रोफेशनल फोटोग्राफर को ढूंढ़ा जाता है, ताकि वह बेहतर तरीके से उन कार्यक्रमों के फोटो और वीडियो शूट कर सके। आयोजकों के लिए भी यह किफायती होता है। इस कारण वे स्थानीय फोटोग्राफर को वरीयता देते हैं। बाहर से किसी प्रोफेशनल फोटोग्राफर को बुलाने पर उसके कार्य के भुगतान के अलावा उसके रहने-खाने आदि की व्यवस्था भी करनी पड़ती है, जिससे बजट काफी बढ़ जाता है।
हाल-फिलहाल में उत्पाद और विज्ञापन जगत का बाजार इतनी तेजी से बढ़ा है कि छोटे शहरों में ही विज्ञापन तैयार होने लगे हैं। प्रोडक्ट फोटोग्राफी व विज्ञापन संबंधी वीडियो फिल्म तैयार होने लगी हैं। ऐसे में फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी की बेहतरीन जानकारी रखने वाले युवाओं को इन क्षेत्रों के काम आसानी से मिल जाते हैं।
प्रशिक्षण है जरूरी
यह एक ऐसा स्वरोजगार है, जो पूरी तरह से व्यावहारिक जानकारी पर आधारित है। इसके लिए रचनात्मक सोच के साथ-साथ प्रशिक्षण लेना भी जरूरी है। इस क्षेत्र में अच्छा करने के लिए विजुअल कमांड के साथ-साथ टेक्नोलॉजी का ज्ञान अहम माना जाता है। प्रशिक्षण के जरिये ही हम कैमरे का सही उपयोग सीख पाते हैं। स्टिल फोटोग्राफी करते वक्त कैमरे की गुणवत्ता, कैमरे की शटर स्पीड, एपर्चर, फोकस आदि का ध्यान रखना जरूरी होता है। स्टिल फोटोग्राफी के लिए जरूरी है कि रोशनी का ध्यान रखने की कला और फ्रेम का संयोजन सही हो। यह प्रशिक्षण से ही सीखा जा सकता है। वहीं वीडियोग्राफी में साउंड, कैमरे से जुड़ी जानकारियां, प्रकाश एवं तकनीक, दृष्टि का पैनापन और दबाव में काम करने की क्षमता का विकास भी प्रशिक्षण से ही आता है। ऐसे में यह जरूरी है कि अपना काम शुरू करने से पहले फोटोग्राफी या वीडियोग्राफी का शॉर्ट टर्म कोर्स कर लिया जाए या फिर किसी एक्सपर्ट प्रोफेशनल फोटोग्राफर या वीडियोग्राफर के साथ रह कर भी ये बारीकियां सीख सकते हैं।
जगह, वेबसाइट और मार्केटिंग
फोटोग्राफी या वीडियोग्राफी के क्षेत्र में स्वरोजगार शुरू करने के लिए जरूरी नहीं कि आपका स्टूडियो हो ही। अगर बाजार के किसी प्रमुख क्षेत्र में स्टूडियो या ऑफिस हो तो बेहतर होगा। इन स्टूडियो में खुद से तैयार किए गए अलग-अलग तरह के फोटो शूट, जैसे- पोर्टफोलियो फोटो शूट, थीम बेस्ड पार्टी फोटो शूट , प्रोडक्ट फोटो शूट आदि को जगह दे सकते हैं। लेकिन ज्यादा जरूरी यह है कि आपको संपर्क बनाना और खुद के बल पर काम पाना आए।अगर आपके संपर्क अच्छे हों तो बगैर ऑफिस या स्टूडियों के भी काम चल कर आपके पास आएगा। हां, ऑफिस के बदले साइबर वर्ल्ड में अपने लिए जगह जरूर बुक करवा लें। बिजनेस को देश-दुनिया तक पहुंचाने के लिए अपनी वेबसाइट होना बेहद जरूरी है। आज की तेज रफ्तार दुनिया में फ्रीलांस फोटोग्राफर्स से ज्यादा मांग ऐसी वेबसाइट्स की है, जो फोटो शूट कर उन्हें बेचने का काम करती हैं। न्यूज पेपर, मैगजीन व कई अन्य जगहों पर ऐसी वेबसाइट्स की काफी मांग रहती है, जहां से फोटो आसानी से खरीदी जा सकें। जीवनशैली, शिक्षा, स्वास्थ्य, वन्य जीवन, पर्यटन, व्यंजन, ग्रामीण जनजीवन, प्रकृति और कला-संस्कृति जैसे तमाम क्षेत्र के फोटो खींच कर आप अपनी वेबसाइट के माध्यम से इन्हें देश-दुनिया में बेच सकते हैं। ऐसे फोटो लेते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि आप जो फोटो ले रहे हैं, वे स्तरीय हों और उनमें नयापन हो। फोटो में आपकी क्रिएटिविटी दिखे, क्योंकि वर्तमान में काफी ऐसी वेबसाइट्स हैं, जो फोटो बेचने का काम करती हैं। ऐसे में अगर आपकी तस्वीर उनसे बेहतर होगी, तभी आपको ज्यादा और अच्छा काम मिलेगा।आप मॉडलिंग में जाने की चाहत रखने वाले युवाओं का फ्री  पोर्टफोलियो तैयार कर उनके फोटो शूट अपनी वेबसाइट्स पर लगा सकते हैं। उनका फोटो शूट करते समय यह ध्यान रखें कि वे आपकी वेबसाइट्स के अलग-अलग सेक्शन की जरूरतों को पूरा करती हों, क्योंकि प्रोफेशनल मॉडल आपकी वेबसाइट्स के लिए फोटो शूट करवाने के लिए काफी पैसे मांग सकते हैं। खुद से बनाई वीडियो फिल्म और डॉक्यूमेंट्री को अपनी वेबसाइट्स पर डालने के साथ-साथ यूट्यूब पर डालने से भी आपकी पहचान बनेगी और आपका काम तेजी से विस्तार पाएगा। बिजनेस को स्थापित करने के लिए प्रचार-प्रसार करें। अपने जानने वालों को अपने काम के बारे में बताने के साथ-साथ होर्डिंग्स, पोस्टर्स, पैम्फ्लेट्स और सोशल नेटवर्किंग साइट्स का सहारा लें।
पूंजी
सिर्फ फोटोग्राफी के क्षेत्र में अगर आप स्वरोजगार शुरू करते हैं तो कम से कम एक लाख रुपये की पूंजी से काम शुरू किया जा सकता है। लेकिन फोटोग्राफी के साथ वीडियोग्राफी का भी काम करना चाहते हैं तो आपके पास ढाई से तीन लाख रुपये तक पूंजी होनी चाहिए। स्टिल फोटोग्राफी के लिए अच्छा डिजिटल डीएसएलआर कैमरा 35 से 75 हजार रुपये तक में आता है, जबकि वीडियो शूट के लिए बेहतरीन कैमकोर्डर 75 से डेढ़ लाख रुपये तक में। इसके अलावा ऑफिस सेटअप, वेबसाइट्स और मार्केटिंग में भी पैसे निवेश करने की जरूरत पड़ेगी।
आमदनी
यह व्यवसाय पूरी तरह से उपभोक्ता पर निर्भर है। आपके पास जितने अधिक और बड़े क्लाइंट होंगे, आमदनी उतनी अधिक होगी। शुरू में आप अपने स्टूडियो में होने वाले पोर्ट्रेट फोटो शूट और फ्रीलान्सिंग के माध्यम से आसानी से 15 से 20 हजार रुपये प्रतिमाह तक कमा सकते हैं। अगर आपका काम लोगों को पसंद आ गया और पहचान बन गई तो कुछ समय में ही आप अपनी वेबसाइट्स, पोर्टफोलियो फोटोग्राफी, एड फिल्म शूटिंग, प्रोडक्ट फोटोग्राफी आदि के माध्यम से लाखों कमा सकते हैं। जरूरत है तो सिर्फ धैर्य रख कर बेहतर काम करने की।

प्रमुख संस्थान
भारतीय विद्या भवन,
नई दिल्ली
वेबसाइट : www.film-tvstudies.com
इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन
वेबसाइट : www.iimc.nic.in
इलाहाबाद यूनिवर्सिटी
वेबसाइट : www.allduniv.ac.in
दिल्ली स्कूल ऑफ फोटोग्राफी
वेबसाइट : www.delhischoolofphotography.in

आवश्यक योग्यता
फोटोग्राफी में रुचि
कैमरा व वीडियो कैमरा टेक्नोलॉजी से अपडेट रहना
फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी के नए टूल्स और लेंस से परिचित रहना
सही एंगल का चुनाव
धैर्य
लगातार अभ्यास
अच्छा व्यावसायिक ज्ञान
बेहतर कम्युनिकेशन स्किल
जिम्मेदार व्यक्तित्व मिलनसार