मासूम बच्चे को ऐसी बीमारी, जिसके मुहं से निकल रहे थे पत्थर, जानिए कहां और कब की है घटना

इंडिया 2डे न्यूज (आपके साथ)
मध्यप्रदेश। एक ऐसी बीमारी जिसके बारे में पहले कभी न सुना न देखा और न ही कभी ऐसी बीमारी का प्रकरण  जिला अस्पताल में आया है, जिसको देखकर चिकित्सक भी हैरान व परेशान हो गए, दरअसल मध्यप्रदेश के जबलपुर सेठ गोविन्ददास विक्टोरिया जिला अस्पताल जबलपुर में एक मासूम बच्चा उपचार के लिए आया, जिसके मुहं से पत्थर (स्टोन) निकल रहे हैं। यह घटना 21 मार्च की है, जिसको डॉक्टरों के इलाज के चलते स्वस्थ्य किया जा सका है।
दरअसल मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले के दमोहनाका पंजाब बैंक कॉलोनी निवासी एक ठाकुर परिवार के सदस्य उस वक्त दहशत में आ गए, जब उनके घर के एक मासूम बच्चे के मुहं से पत्थर निकलना शुरू हुआ। मासूम बच्चे के मुहं लगातार निकल रहे पत्थर को देखकर माता-पिता घबरा गए और इस संबंध के मर्ज को जानने के लिए इधर-उधर भटकने लगे।

परिजन आए दहशत में
—————–
इस संबंध में जितेन्द्र ठाकुर ने बताया कि उनका बेटा यश ठाकुर सुबह 11 बजे करीब मोहल्ले में खेलने के बाद जब घर आया तो उसने बताया कि उसके मुहं से पत्थर निकल रहे हैं, जिसको लेकर उन्होंने सोचा कि उनका बच्चा ऐसी ही मजाक कर रहा होगा या फिर खाना खाया होगा, तो उसके साथ पत्थर भी खा लिया होगा, जो कि बाहर निकल रहे हैं, लेकिन कुछ देर बार फिर उनके बेटे यश ने पत्थर निकलने की बात कही तो उन्होंने देखा कि उसके मुहं से एक साथ कई पत्थर निकल रहे हैं, फिर वह दहशत में आ गए।

झाड़-फूंक वाले भी घबरा गए
———————-
परिजन बच्चे के मुहं से निकल रहे पत्थर के संदर्भ के मर्ज की जानकारी जुटाने के लिए सबसे पहले झाड़-फूंक वाले बाबा व अन्य स्थल पर इस पहुंचे कि इस तरह की बीमारी को न पहले कभी उन्होंने देखा है और न जाना है, जब वह झाड़-फूंक करने वाले के यहां पहुंचे तो वह भी बच्चे के द्वारा मुहं से निकल रहे पत्थर को देखकर घबरा गए और वह भी नहीं समझ सके  कि आखिर यह क्या बीमारी है या फिर क्या टोटका है।

फिर पहुंचे अस्पताल, तो मिली जानकारी
——————————
यश ठाकुर उम्र 8 वर्ष को 20 मार्च की सुबह से ही मुहं से पत्थर निकल रहे थे। फिर 21 मार्च को सुबह 11 बजे जिला अस्पताल पहुंचे। जहां पर शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ मंजुलता अग्रवाल को बच्चे के पिता जितेन्द्र ठाकुर ने दिखाया, तो डॉक्टर भी बच्चे की बीमारी को जान कर हैरान हो गईं, जिसके बाद वह भी बच्चे की गहन जांच में जुट गई, फिर पता चला कि बच्चे यश को लार ग्रंथी में स्टोन बनने के कारण वह  बीमारी से पीडि़त हो गया है।

पहली बार देखा है ऐसा प्रकरण
————————
इस संबंध में शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ मंजुलता अग्रवाल ने बताया कि वह जबसे डॉक्टर हैं, तब से उनके समक्ष पहली बार ऐसा प्रकरण सामने आया है कि किसी के मुहं से पत्थर निकल रहे हैं। जिसकी जांच करते हुए उपचार की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जांच उपरांत यह ज्ञात हुआ कि लार ग्रंथी में स्टोन बनने के कारण बच्चे के मुहं से पत्थर निकल रहे हैं। यह बीमारी डी-हाईड्रेशन, कैल्शियम की कमी, लार ग्रंथी में इन्फेक्शन होने से होती है।

ऐसे मासूम बच्चे, जिनकी आपबीती सुनकर आप भी रो देंगे

इंडिया 2डे न्यूज(आपके साथ)
मध्यप्रदेश। जन्म किसने दिया , पाल-पोष कर बड़ा किसने किया यह नहीं मालूम, कौन हैं माता-पिता इनका भी पता नहीं, किधर है ठिकाना यह भी मालूम नहीं, सबकुछ होने के बावजूद गुमनाम में दर्ज है कुछ ऐसे मासूमों का जीवन जिनका इस दुनिया में केवल कुछ समाजसेवी व संस्थाएं ही परिवार, रिश्तेदार, दोस्त व शिक्षक आदि सबकुछ हैं। दरअसल यह मामला बाल गृह में अपना जीवनयापन कर रहे मासूमों का है। यह बालगृह मध्यप्रदेश के अंतर्गत आने वाले जबलपुर जिले के गोकलपुर क्षेत्र में स्थित है।

कोई स्टेशन पर मिला, तो कोई सड़क पर भीख मांगते हुए और कोई नशे में धुत हालत में गंभीरावस्था में मिला तो वहीं कोई मंदिर की सीढिय़ों में अपना गुजरवसर करते हुए दिखाई दिया। जिनकों चाईल्ड लाईन व शहर के स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा ऐसे मासूमों की परवरिश के लिए बाल गृह में पहुंचाया गया, ताकि ऐसे मासूम अपना बेहतर जीवनयापन कर सकें।

इन मासूमों को केवल अपना व पिता का नाम मालूम है बाकी जानकारी नहीं
———————————————————–
नाम व पिता        पता    परिवार की जानकारी
———————————————————–
सूरज पिता राकेश        अज्ञात    परिवार की कोई जानकारी नहीं
करन पिता प्रकाश        अज्ञात    परिवार की कोई जानकारी नहीं
राहुल पारिया        अज्ञात    परिवार की कोई जानकारी नहीं
कैलाश            अज्ञात    परिवार की कोई जानकारी नहीं
आकाश पिता दिनेश        अज्ञात    परिवार की कोई जानकारी नहीं
आकाश पिता संतोष        अज्ञात    परिवार की कोई जानकारी नहीं
———————————————————–

बेहतर परवरिश के लिए किए जा रहे कार्य
——————————–
बाल गृह गोकलपुर से प्राप्त जानकारी के अनुसार बाल गृह में कुछ ऐसे बच्चें हैं, जिनके  संबंध की कोई जानकारी नहीं है, जिनमें से कुछ बच्चों का पता मालूम है, लेकिन उनके परिवार की कोई जानकारी नहीं है। इस वजह से ऐसे बच्चों की परवरिश बाल गृह में करते हुए उनके बेहतर भविष्य का निर्माण करने नैतिक शिक्षा व स्कूली शिक्षा प्रदान की जा रही है, ताकि यह बच्चे बड़े होकर अपने पैरों पर खड़ा हो सकें।

बच्चों के संबंध की नहीं मिल रही जानकारी
——————————–
प्रथम न्यायायिक मजिस्ट्रेट अरूण जैन ने बताया कि ऐसे बच्चें जिनके बारे में कुछ जानकारी नहीं है, ऐसे बच्चों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए उनके द्वारा व विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से कार्य किया जा रहा है, लेकिन किसी भी प्रकार की बच्चों की कोई जानकारी न मिलने के कारण ऐसे बच्चे अपनों के होने के बावजूद अपनों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं।

सभी से की अपील, ताकि मिल सके परिवार
——————————–
मजिस्ट्रेट अरूण जैन बताया कि बाल गृह में रह रहे ऐसे कुछ बच्चों को उनके माता-पिता परिवार व अन्य किसी भी प्रकार की कोई जानकारी नहीं है। इसके लिए  स्वयंसेवी संस्था, शहर के नागरिक व सामाजिक कार्यकर्ता आदि आगे आते हुए बच्चों को गोद भी ले सकते हैं, ताकि उन्हें उनका परिवार मिल सके। उन्होंने बताया कि यह बच्चे कहीं न कहीं किसी क्षेत्र से भिक्षावृत्ति व नशा करते हुए मिले थे, जिन्हें बाल गृह में लाकर उनकी परवरिश की जा रही है।

एक साथ क ई डॉक्टर नहीं कर पाएंगे काम, ऐसे में सरकारी अस्पतालों का क्या होगा, जानिए आखिर इसकी क्या है वजह

इंडिया 2डे न्यूज(आपके साथ)
मध्यप्रदेश। भारी तदाद में मध्यप्रदेश से डॉक्टरों की सेवानिवृत्ति वर्ष 2017 में हो रही है। जिससे डॉक्टरों की अत्यंत कमी आ जाएगी। दरअसल यह कमी जिला अस्पताल, सिविल अस्पताल, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, मेडिकल व महाविद्यालय से विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवा-अवधि पूर्ण होने पर सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं। एक साथ वर्ष 2017 में काफी संख्या में सेवानिवृत्त होने जा रहे चिकित्सकों के कारण स्वास्थ्य सेवाएं लडख़ड़ा सकती हैं। जिससे मरीजों को विभिन्न बीमारियों से पीडि़त होने पर समय पर उपचार न मिलने से कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

मप्र शासन लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग मंत्रालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2017 के जनवरी माह से लेकर दिसम्बर माह तक प्रदेश से करीब 100 से अधिक विभिन्न बीमारियों के विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवानिवृत्ति होना है। जिसमें से जनवरी व फरवरी माह में कई चिकित्सकों की सेवानिवृत्ति हो चुकी है।

लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग का आदेश
—————————————-
मप्र शासन लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अपर सचिव गिरीश कुमार नेगी के पत्र के क्र मांक 391/5009/2016/सत्रह/मेडि-1 के अनुसार 1 फरवरी 2017 को आदेश जारी करते हुए पत्र में जानकारी दी कि मप्र शासकीय सेवक अधिनियम 1967 की धारा 2 में मूल नियम के नियम 56 के उप नियम(1-घ) के संशोधन अधिनियम 2011 के अंतर्गत राज्य शासन एतद द्वारा अधिवार्षिर्की आयु पूर्ण करने के फलस्वरूप उन्हें शासकीय सेवा से सेवानिवृत्त किया जाता है।

इस विभाग के विशेषज्ञ चिकित्सक होंगे सेवानिवृत्त
————————————–
मप्र के विभिन्न शासकीय अस्पतालों, सामुदायिक केन्द्र, मेडिकल व स्वास्थ्य केन्द्रों में कार्य करने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं। जिसमें शिशु रोग विशेषज्ञ, स्त्री रोग विशेषज्ञ, दंत रोग विशेषज्ञ, क्षय रोग विशेषज्ञ, मेडिकल विशेषज्ञ, मेडिसीन विशेषज्ञ, निश्चेतना विशेषज्ञ, पैथालॉजिस्ट, अस्थिरोग विशेषज्ञ, रेडियालॉजिस्ट, शल्यक्रिया विशेषज्ञ सहित अन्य विशेषज्ञ चिकित्सक सेवानिवृत्त हो रहे हैं।

जबलपुर से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ प्रमोद कुमार अवस्थी    जिला चिकित्सालय    31 जनवरी 2017
दंत रोग विशेषज्ञ        जबलपुर।
डॉ पुष्पा द्विवेदी        जिला चिकित्सालय    28 फरवरी 2017
स्त्री रोग विशेषज्ञ        जबलपुर।
डॉ मंजूलता अग्रवाल    जिला चिकित्सालय    30 जून 2017
शिशु रोग विशेषज्ञ        जबलपुर।
डॉ प्रमोद कुमार शर्मा    जिला चिकित्सालय    31 जनवरी 2017
पैथालॉजिस्ट        जबलपुर।
डॉ केसी गुप्ता        जिला चिकित्सालय    30 सितम्बर 2017
नाक,कान गला रोग विशेषज्ञ    जबलपुर।
डॉ एके जैन        जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
पैथालॉजिस्ट        जबलपुर।
डॉ एके जैन        जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
रेडियोलॉजिस्ट        जबलपुर।
डॉ प्रदीप अग्रवाल        सामुदायिक स्वास्थ्य     30 जून 2017
सीबीएमओ        केन्द्र शहपुरा जबलपुर।
डॉ केसी सिंघई        सामुदायिक स्वास्थ्य    31 मार्च 2017
सीबीएमओ        केन्द्र मझौली जबलपुर।
डॉ एके दास        सिविल अस्पताल    30 जून 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        सिहोरा जबलपुर।
डॉ एसके उपाध्याय        जबलपुर।        31 अगस्त 2017
टीकाकरण अधिकारी
डॉ डीएन पाठक        स्वास्थ्य सेवाएं    30 सितम्बर 2017
उप व संयुक्त संचालक    जबलपुर।
डॉ पीके भालचक्र        प्राथमिक स्वास्थ्य    30 जून 2017
चिकित्सा अधिकारी        केन्द्र पडरिया जबलपुर।
डॉ राजकुमार जैन        रानी दुर्गावती    31 मई 2017
निश्चेतना विशेषज्ञ        चिकित्सालय जबलपुर।
———————————————————–

सागर से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ आरडी नन्हौरिया        जिला चिकित्सालय    28 फरवरी 2017
ईएनटी विशेषज्ञ        सागर।
डॉ पी भारद्वाज        जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
ईएनटी विशेषज्ञ        सागर।
डॉ बीसी जैन        जिला चिकित्सालय    31 अक्टूबर 2017
मेडिकल विशेषज्ञ        सागर।
डॉ एचएन नायक        जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        सागर।
डॉ डीके पिप्पल        संभागीय संयुक्त    30 अप्रैल 2017
क्षयरोग विशेषज्ञ        संचालक सागर।
———————————————————–

शिवपुरी से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ एसके बंसल        जिला चिकित्सालय    30 नवम्बर 2017
अस्थि रोग विशेषज्ञ        शिवपुरी।
डॉ निसार अहमद        जिला चिकित्सालय    31 दिसम्बर 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        शिवपुरी।
———————————————————–

सिवनी से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ जगदीश प्रसाद        सिविल अस्पताल    30 अप्रैल 2017
सीबीएमओ        लखनादौन सिवनी।
डॉ एके तिवारी        जिला चिकित्सालय    31 मार्च 2017
मेडिकल विशेषज्ञ        सिवनी।
डॉ एसके नेमा        जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
मेडिकल विशेषज्ञ        सिवनी।
———————————————————–

भोपाल से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ ज्योत्सना तिवारी        सामुदायिक स्वास्थ्य    31 मई 2017
चिकित्सा अधिकारी        कोलार भोपाल।
डॉ निर्मला जांगड़े        क्षय चिकित्सालय    31 मार्च 2017
चिकित्सा अधिकारी        भोपाल।
डॉ पीसी जोशी        सिविल डिस्पेंसरी    30 जून 2017
चिकित्सा अधिकारी        प्रो. कॉलोनी भोपाल।
डॉ एनपी अग्रवाल        जेपी चिकित्सालय    30 नवम्बर 2017
निलंबित चिकित्सा अ.    भोपाल।
डॉ एमएस ठाकुर        सिविल अस्पताल    31 मार्च 2017
चिकित्सा अधिकारी।    बैरागढ़ भोपाल।
डॉ अशोक कु अवस्थी    जय प्रकाश        30 जून 2017
पैथालॉजिस्ट        चिकित्सालय भोपाल।
डॉ नरेश मितना        जय प्रकाश        31 मार्च 2017
अस्थिरोग विशेषज्ञ        चिकित्सालय भोपाल।
डॉ सिंधु जैन        जय प्रकाश        30 अप्रैल 2017
स्त्रीरोग विशेषज्ञ        चिकित्सालय भोपाल।
डॉ महेन्द्र कु जैन        केएनके चिकित्सालय    28 फरवरी 2017
रेडियालॉजिस्ट        भोपाल।
डॉ आशा चौधरी        केएनके चिकित्सालय    30 जून 2017
अधीक्षक        भोपाल।
डॉ निशा श्रीवास्तव        जिला चिकित्सालय    30 जून 2017
पैथालॉजिस्ट        भोपाल।
डॉ किरण शेजवार        प्रभारी संयुक्त संचालक    31 मार्च 2017
उप संचालक स्वास्थ्य सेवाएं    स्वास्थ्य सेवाएं भोपाल।
———————————————————–

मंदसौर से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ प्रमिला नाहर        सिविल अस्पताल     31 दिसम्बर 2017
स्त्रीरोग विशेषज्ञ        भानपुर जिला मन्दसौर।
डॉ आरसी देवड़ा        सीएमओ मंदसौर    30 जून 2017
जिला स्वास्थ्य अधिकारी
———————————————————-

उज्जैन से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ सुनील कु श्रीवास्तव    जिला उज्जैन।    30 जून 2017
सर्जिकल विशेषज्ञ
डॉ एचएस गोयल        सामुदायिक स्वास्थ्य    31 अप्रैल 2017
चिकित्सा अधिकारी        केन्द्र झारड़ा उज्जैन।
डॉ घनश्याम मित्तल        सामुदायिक स्वास्थ्य    30 जून 2017
चिकित्सा अधिकारी        केन्द्र तराना उज्जैन।
डॉ निधि व्यास        स्वास्थ्य सेवाएं उज्जैन।    30 अप्रैल 2017
प्र.संयुक्त संचालक
डॉ अशोक यादव        स्वास्थ्य सेवाएं उज्जैन।    30 जून 2017
उप व संयुक्त संचालक
———————————————————–

छिन्दवाड़ा से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ एस के नायडू        जिला चिकित्सालय    30 जून 2017
निश्चेतना विशेषज्ञ        छिन्दवाड़ा।
डॉ पीके श्रीवास्तव        जिला चिकत्सालय    31 दिसम्बर 2017
शल्यक्रिया विशेषज्ञ        छिन्दवाड़ा।
———————————————————–

बैरागढ़ से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ आरएस विजयवर्गीय    सिविल अस्पताल    31 मई 2017
मेडिकल विशेषज्ञ        बैरागढ़।
डॉ बीएम श्रीवास्तव        सिविल अस्पताल    30 नवम्बर 2017
शल्यक्रिया विशेषज्ञ        बैरागढ़।
———————————————————–

बालाघाट से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ व्हीके चौधरी        वारासिवनी        30 अप्रैल 2017
मेडिकल विशेषज्ञ        जिला बालाघाट।
डॉ राकेश कु पाण्डया    जिला बालाघाट।    31 मई 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ
———————————————————–

श्योपुर से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ एके गर्ग        जिला चिकित्सालय    31 दिसम्बर 2017
अस्थिरोग विशेषज्ञ        श्योपुर।
डॉ पीएल गुप्ता        जिला चिकित्सालय    31 अगस्त 2017
मेडिसिन विशेषज्ञ        श्योपुर।
डॉ एसके तिवारी        प्र.सिविल सर्जन जिला    30 सितम्बर 2017
निश्चेतना विशेषज्ञ        चिकित्सालय श्योपुर।
———————————————————–

धार से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ चन्द्रशेखर गंगराडे    जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        धार।
डॉ अमर सिंह विश्नार    जिला चिकित्सालय    31 अक्टूबर 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        धार।
डॉ जेपी बिजोरिया        प्राथमिक स्वास्थ्य     31 जुलाई 2017
चिकित्सा अधिकारी        केन्द्र तीसगांव धार।
———————————————————–

रीवा से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ शंकर्षण प्रसाद तिवारी    स्वास्थ्य सेवाएं रीवा    31 जुलाई 2017
संयुक्त संचालक
डॉ अभिमन्यु सिंह परिहार    स्वास्थ्य सेवाएं रीवा    31 जुलाई 2017
संयुक्त संचालक
डॉ एमके तिवारी        चिकित्सा महाविद्यालय    31 अगस्तर 2017
चिकित्सा अधिकारी        रीवा।
डॉ अशोक प्रताप सिंह    गांधी स्मारक    31 जनवरी 2017
चिकित्सा अधिकारी        चिकित्सालय रीवा।
डॉ अनिल श्रीवास्तव    चिकित्सा         31 जुलाई 2017
चिकित्सा विशेषज्ञ        महाविद्यालय रीवा।
डॉ चन्द्रिका प्रसाद द्विवेदी    जिला चिकित्सालय    31 मार्च 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        रीवा।
डॉ संतोष कु पाठक        गांधी स्मारक    31 अगस्त 2017
स्त्रीरोग विशेषज्ञ        चिकित्सालय रीवा।
———————————————————–

देवास से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ योगेश वालिम्बे        जिला चिकित्सालय    30 अप्रैल 2017
अस्थिरोग विशेषा        देवास।
डॉ अखिलेश कु दीक्षित    जिला चिकित्सालय    31 दिसम्बर 2017
सर्जिकल स्पेशलिस्ट        देवास।
डॉ प्रकाश गर्ग        जिला चिकित्सालय    31 अगस्त 2017
शि.शे.विशेषज्ञ        देवास।
डॉ एच रहमान        जिला चिकित्सालय    31 मई 2017
मेडिकल ऑफिसर        देवास।
———————————————————–

खण्डवा से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ डीपी अग्रवाल        सामुदायिक स्वास्थ्य    30 सितम्बर 2017
चिकित्सा अधिकारी        केन्द्र हरसूद खण्डवा।
डॉ एसके चव्हाण        प्राथमिक स्वास्थ्य    31 अक्टूबर 2017
चिकित्सा अधिकारी        केन्द्र खार खाण्डवा।
———————————————————–

इन्दौर से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ कु.प्रमोदनी हडके    जिला चिकित्सालय    30 जून 2017
चिकित्सा अधिकारी        इन्दौर।
डॉ आरसी हनोतिया        जिला चिकित्सालय    30 जून 2017
चिकित्सा अधिकारी        इन्दौर।
डॉ अनूप जैन        जिला चिकित्सालय    31 मई 2017
दंत चिकित्सक        इन्दौर।
डॉ संतोष कु अवधिया    जिला चिकित्सालय    28 फरवरी 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        इन्दौर।
———————————————————–

टीकमगढ़ से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ सुनीता जैन        जिला चिकित्सालय    30 जुलाई 2017
शिशरोग विशेषज्ञ        टीकमगढ़।
डॉ एसएम तिवारी        सामुदायिक स्वास्थ्य    30 जुलाई 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        के न्द्र निमाड़ी टीकमगढ़।
डॉ एलएल चंदेरिया        सामुदायिक स्वास्थ्य    31 अक्टूबर 2017
मुख्य चिकित्सा अधिकारी    केन्द्र जतारा टीकमगढ़।
———————————————————–

भिण्ड से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ जेपी करोठिया        भिण्ड।        31 मई 2017
सीएमएचओ
डॉ केएन शर्मा        जिला चिकित्सालय    31 मार्च 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        भिण्ड।
डॉ आरसी श्रीवास्तव    जिला चिकित्सालय    30 सितम्बर 2017
ईएनटी विशेषज्ञ        भिण्ड।
———————————————————–

हरदा से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ रमेश चन्द्र उदेनिया    हरदा।        28 फरवरी 2017
सीएमएचओ
डॉ रविन्द्र कु जैन        हरदा।        31 अगस्त 2017
टीकाकरण अधिकारी
———————————————————–

विदिशा से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ शेखर जालवगणकर    सिविल सर्जन    31 मई 2017
निश्चेतना विशेषज्ञ        सह अधीक्षक विदिशा।
डॉ एसके वर्मा        जिला चिकित्सालय    30 अप्रैल 2017
नेत्ररोग विशेषज्ञ        विदिशा।
———————————————————–

बैतूल से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ यूके राजूकर        जिला चिकित्सालय    31 मई 2017
दंतरोग विशेषज्ञ        बैतूल।
डॉ रश्मि कुमारा        जिला चिकित्सालय    30 सितम्बर 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        बैतूल।
———————————————————–

सतना से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ डीके तिवारी        जिला चिकित्सालय    31 जनवरी 2017
अस्थिरोग विशेषज्ञ        सतना।
डॉ पीके शर्मा        सामुदायिक स्वास्थ्य    30 सितम्बर 2017
शल्यक्रिया विशेषज्ञ        केन्द्र अमरपाटन सतना।
———————————————————–

दमोह से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ केएल आदर्श        सामुदायिक स्वास्थ्य    31 मार्च 2017
सीबीएमओ        केन्द्र बटियागढ़ दमोह।
डॉ एसएन गुप्ता        सामुदायिक स्वास्थ्य    31 जुलाई 2017
मेडिकल ऑफिसर        केन्द्र तेन्दुखेड़ा दमोह।
———————————————————-

शहडोल से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ आरके सिंह        जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
नेत्ररोग विशेषज्ञ        शहडोल।
डॉ पीसी वर्मा        जिला चिकित्सालय    30 सितम्बर 2017
मेडिकल ऑफिसर        शहडोल।
डॉ एसपी द्विवेदी        प्रभारी सिविल    30 अप्रैल 2017
स्त्रीरोग विशेषज्ञ        सर्जन शहडोल।
———————————————————–

सीहोर से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ मुकीम अहमद        नसरूल्लागंज        30 सितम्बर 2017
सीबीएमओ        जिला सीहोर।
डॉ जीसी जोशी        सामुदायिक स्वास्थ्य    31 जुलाई 2017
सर्जिकल विशेषज्ञ        केन्द्र रेहटी जिला सीहोर।
———————————————————–

रतलाम, मण्डला, होशंगाबाद, शजापुर, अशोकनगर,  बुरहानपुर,  अलीराजपुर इटारसी, मुरैना,  छतरपुर, रायसेन, गुना से सेवानिवृत्त होने वाले विशेषज्ञ चिकित्सक
———————————————————–
डॉक्टर व विशेषज्ञ        पदस्थापना        सेवानिवृत्ति
———————————————————–
डॉ मंजू सिंह        जिला चिकित्सालय    30 जून 2017
रतलाम।
डॉ आईएस सिंह        जिला चिकित्सालय    31 दिसम्बर 2017
पैथालॉजिस्ट        मण्डला।
डॉ रविकांत शर्मा        जिला चिकित्सालय    30 अगस्त 2017
पैथालॉजिस्ट        होशंगाबाद।
डॉ जीएस चन्द्रावत        सिविल अस्पताल    31 मार्च 2017
शिशुरोग विशेषज्ञ        शुजालपुर शाजापुर।
डॉ रिषम कु गोयल        जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
नाक,कान, गला रोग विशेषज्ञ    अशोकनगर।
डॉ कैलाश चन्द्र खर    े    सामुदायिक स्वास्थ्य के्र.    31 जुलाई 2017
चिकित्सा अधिकारी        नेपानगर बुरहानपुर।
डॉ प्रकाश चन्द्र जैन        अलीराजपुर।    30 सितम्बर 2017
चिकित्सा अधिकारी
डॉ एनके जैन        डॉ श्यामा प्रसाद     31 जनवरी 2017
मेडिकल ऑफिसर        मुखर्जी चि. इटारसी।
डॉ जीसी सक्सेना        जिला चिकित्सालय    31 जुलाई 2017
ईएनटी विशेषज्ञ        मुरैना।
डॉ एसके दीक्षित        जिला छतरपुर।    31 जून 2017
मेडिकल विशेषज्ञ
डॉ एजे खान        जिला चिकित्सालय    31 जनवरी 2017
शल्यक्रिया विशेषज्ञ        रायसेन।
डॉ सुधीर कु जैन        जिला चिकित्सालय    31 अगस्त 2017
नेत्ररोग विशेषज्ञ        गुना।
———————————————————-

जिसे सेवा व शिक्षा के आगे नहीं है पद की चाह, भला इस दुनिया में है ऐसा कोई व्यक्ति, मिलिए एक ऐसे ही शख्स से

इंडिया 2डे न्यूज(आपके साथ)
मध्यप्रदेश । कहते हैं कि पद की लालसा में न जाने व्यक्ति क्या-क्या जतन करता है कि उसे किसी तरह से पद हासिल हो जाए, लेकिन ऐसे बहुत कम लोग होते हैं, जो पद की लालसा न रखते हुए केवल अपनी ईमानदारी से नौकरी के दौरान सेवा कार्य करना चाहते हैं, कुछ ऐसा ही मामला मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले में स्थित नेताजी सुभाषचन्द्र बोस मेडिकल कॉलेज व अस्पताल का सामने आया है। जहां पर एक विशेषज्ञ चिकित्सक ने शासन द्वारा प्रदान किए गए पद को इसलिए नहीं स्वीकार करना चाह रहा है, क्योंकि वह मेडिकल कॉलेज के प्रत्येक विद्यार्थियों सहित गरीब विद्यार्थियों को बेहतर चिकित्सा की शिक्षा देना चाहते हैं और मेडिकल अस्पताल में आने वाले प्रत्येक मरीज के साथ-साथ गरीब मरीजों का बेहतर से बेहतर इलाज करना चाहते हैं, इसलिए ऐसे शख्स व वरिष्ठ चिकित्सक डॉ धनंजय शर्मा ने मेडिकल के डीन पद को अस्वीकार कर दिया है। जो हर एक व्यक्ति के लिए एक मिसाल है।

नेताजी सुभाषचन्द्र बोस मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में उस वक्त खुशी की लहर दौड़ पड़ी कि जब मेडिकल डीन के रिक्त पद के लिए डॉ धनंजय शर्मा को नियुक्त किया गया। नियुक्ति के बाद से मेडिकल के चिकित्सक, छात्रों, कर्मचारियों सहित अन्य में हर्ष का वातावरण रहा, क्योंकि इस पद पर एक ईमानदार व सेवाकारी शख्सियत को शासन ने जवाबदारी दी है, लेकिन मप्र शासन के चिकित्सा शिक्षा मंत्रालय संचालक से जारी आदेश में नियुक्त किए गए वरिष्ठ डॉ धनंजय शर्मा को शासन का यह आदेश उनके सेवा कार्यो में बाधा पहुंचाएगा, जिसके चलते उन्हे डीन पद का आदेश पंसद नहीं आ रहा है।

डॉ ने पहले भी मना किया था कि उन्हें नहीं चाहित पद
—————————————–
डॉ धनंजय शर्मा ने बताया कि जब मेडिकल में डीन पद रिक्त हुआ, तब से उनका नाम डीन पद के लिए शासन स्तर पर प्रस्तावित किया गया था, जिसकी जानकारी लगने पर उन्होंने मेडिकल के वरिष्ठ अधिकारी व चिकित्सक व शासन- प्रशासन के अधिकारियों को अवगत कराया था कि वह डीन पद के दायित्व का निर्वहन नहीं करना चाहते हैं और न ही वह डीन बनना चाहते हैं, उसके बावजूद उनके नाम का आदेश डीन पद के लिए जारी कर दिया गया। उन्होंने बताया कि वह शासन के आदेश का सम्मान करते हैं, लेकिन शासन से उन्होंने यह भी मांग की वह उनकी बातों पर विशेष ध्यान दें।

नहीं करना चाहते हैं अपना कार्य प्रभावित
—————————-
डॉ श्री शर्मा ने चर्चा में बताया कि वह डीन पद को स्वीकार नहीं करेंगे, अगर शासन स्तर पर उन्हें इस पद को स्वीकार करने के लिए मजबूर किया जाएगा तो वह नौकरी से भी त्याग पत्र दे सकते हैं। डॉ धनंजय शर्मा का मनना है कि वह मेडिकल कॉलेज व अस्पताल में वर्तमान में जिस पद पर है उसी पद पर रहते हुए मरीजों की सेवा करना चाहते हैं और विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा देते हुए उन्हें अच्छा डॉक्टर बनाना चाहते हैं, न की वह प्रबंधन से जुड़े डीन पद की जवाबदारी लेकर इन सभी कार्यो को प्रभावित करना चाहते हैं।

विद्यार्थी अच्छे डॉक्टर बनें और करें मरीजों की सेवा
—————————————-
चर्चा के दौरान डॉ धनंजय शर्मा ने बताया कि वह अपने वरिष्ठ प्रोफेसर के पद पर रहते हुए मेडिकल कॉलेज में अध्ययन करने वाले विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा देकर बेहतर डॉक्टर बनाना चाहते हैं, ताकि बेहतर शिक्षा के माध्यम से विद्यार्थी अध्ययन कार्य पूर्ण कर एक अच्छे डॉक्टर बनकर पीडि़त मानवता की सेवा करें।

ताकि स्वास्थ्य हालत में घर लौट सकें मरीज
———————————
डॉ धनंजय शर्मा ने चर्चा में यह भी बताया कि वह मेडिकल अस्पताल में आने वाले निर्धन मरीजों को बेहतर उपचार करते हुए उनकी उम्र बीती जा रही है, उन्होंने बताया कि अस्पताल में आने वाले प्रत्येक मरीज को बेहतर उपचार मिले और वह अपनी पीड़ा से मुक्ति पाते हुए स्वास्थ्य हालत में वापस अपने घर लौटे इसी उद्देश्यों को पूरा करने का उनके द्वारा कार्य किया जा रहा है। वहीं गरीब मरीजों के लिए हर संभव मदद करने का भी कार्य डॉ धनंजय शर्मा द्वारा किया जाता है।

गरीबों के मसीहा हैं डॉ धनंजय शर्मा
————————–
दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी संघ मेडिकल कॉलेज जबलपुर के अध्यक्ष बाल्मीक शुक्ला, संदीप शर्मा, दुर्गेश ठाकुर, मनतोष ठाकुर, कौशलपुरी गोस्वामी, संतोष विश्वकर्मा, राकेश कुडे, सुदीप आदि ने बताया कि डॉ धनंजय शर्मा एक विश्व विख्यात सर्जन हैं, जो मेडिकल अस्पताल में आने वाले गरीब मरीजों को बेहतर परवरिश के साथ-साथ उनका उपचार भी करते हैं, जिनके अंदर ईमानदारी व सेवा भाव की भावना कूट-कूट कर भरी है। सरकार द्वारा मेडिकल डीन पद के लिए एक अच्छे व्यक्तित्व की नियुक्ति की गई है, लेकिन वह किस वजह से इस पद को स्वीकार नहीं कर रहे हैं यह उन सभी के समझ से परे है।

विशेषज्ञों ने किया डॉ धनंजय शर्मा का समर्थन
————————————
इंडिया 2डे न्यूज ने इस संबंध में कई ऐसे कई विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े विशेषज्ञों से चर्चा की, जिन्होंने बताया कि अगर कोई व्यक्ति अपने देश के भविष्यों को बनाने में जुटा हुआ है और वह परोपकारी कार्यो को अंजाम दे रहा है तो उसे अतिरिक्त प्रभार न देते हुए शासन को उस व्यक्ति की बातों पर ध्यान देते हुए उसके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलना चाहिए, क्योंकि दुनिया में ऐसे बहुत ही कम ही लोग होते हैं जो अपने कार्यो को ईमानदारी के साथ करते हुए सेवा के कार्यो को अंजाम देते हैं। शासन को डॉ धनंजय शर्मा की बात मानकर अन्य किसी वरिष्ठ चिकित्सक को डीन पद के लिए नियुक्त करना चाहिए, न की उनके ऊपर दबाव बनाते हुए या फिर आदेश की आव्हेलना करने पर कार्यवाही नहीं करना चाहिए।